संतश्री आशारामजी बापू को नही जानने वालो के लिए ...........
बापूजी सिर्फ कथा-वाचक-प्रवचन करने वाले संत नहीं है बल्कि........

ये वही बाबा हे जिन्होने वर्ल्ड रिलीजियस पार्लियामेंट, शिकागो में ( स्वामी विवेकानंद के १०० साल बाद) १९९३ में भारत का नेतृत्व किया था |

२. जिसने वैलेंटाइन डे की जगह पे १४ फरुवरी को मदर-फादर पूजन दिवस का विकल्प रख दिया हे भारत वासियों को जिसे कई मुस्लिम और ईसाई लोग भी मनाते है।

३. ये वही बाबा हे जिसने गुजरात के भुज-कच्छ, छत्तीसगढ़ , महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश में के आदिवासी इलाकों मे जहां कई हजार हिन्दू जो धर्मांतरित ईसाई चुके थे, उनको मकान-राशन-कपड़े-रुपये आदि और सनातन संस्कृति का ज्ञान देकर वापस हिन्दू बना दिया |

4.ये वही बाबा हे जिसने एक ऐसा चमत्कार दिखाया जो इस दुनिया ने इसके पहले कभी नहीं देखा हे। २९ अगस्त २०१२ को हेलिकाप्टर के कई टुकडे हो गए पायलट के साथ स्वयं और ३ और लोगो को खरोच मात्र नहीं आई (उसकी विडियो आप देख सकते हे)|

५. ये वही बाबा हे जिसके प्रेरणा से १८००० बालसंस्कार केंद्र चल रहे हे और भारत की नीव मजबूत बनाने की पूरी तयारी हे |

६.बच्चो को बचपन से ही असली भारतीय बना दिया जा रहा हे , जो बाद में किसी भी विपदा के आगे अपने देश की अस्मिता को सुरक्षित रखेंगे.

७.ये वही बाबा है जो अपने साधको को से दूर रखकर, उनको संयमी-स्वदेशी जीवन जीने का संकल्प करवाते है, जिससे उनके साधक व्यसन (शराब-गुटखा, चाय-कॉफ़ी), अश्लीलता, कंडोम-गर्भनिरोधक गोलीयों, गर्भपात आदि से दूर रहते है, जिससे समाज को पतन की खाई मे गिरने से बचाकर खरबों रुपया इस देश का बचाते है।

कुप्रचार करने वाले कुछ सौ है और बकवास करने वाले कुछ हज़ार, लेकिन सुप्रचार करने वाले करोडो है।
जप-ध्यान द्वारा संकल्प करके षड्यंत्रकारियो की धज्जिया उड़ा देने में समर्थ साधकों, आप लोग क्यों ज्यादा उलझ रहे हो ?? कुछ लोग यही तो चाहते है। इसलिए अब अपना संकल्प करके आकाश में छोडो और भारतीय संस्कृति की सुरक्षा के और कुप्रचार का दम निकाल दो। अपने आप पर भरोसा करो, ईश्वर की शरण जाओ। वो सत्य स्वरुप, आनंद स्वरुप, ज्ञान स्वरुप है और न्याय स्वरुप है। अपने मन को मत भटकाइये, अंतर्यामी की शरण जाइए, यदि आपको सच मे गुरु का ज्ञान पचा है, सत्य स्वरुप में स्थिति को कुछ समझा है तो जागृत देव के शरण जाओ वो सब जानते है।
 
Top