गीता के ज्ञान से हम अज्ञान हो गए,
हमारे ग्रन्थ हदीस और कुरान हो गए,,,,
श्री राम हंस रहें हैं अपने संसार पर,
जिस में कश्मीर और केरल श्मशान हो गए,,,, 
ब्राह्मण सैय्यद बन कर धनवान हो गए ,,
क्षत्रिय बड़े शान से पठान हो गए,
... वैश्य सिद्दीकी बन कर इतरा रहा ,,
शूद्र अंसारी और सुलेमान हो गए ,,,,
 जिन को श्री राम प्यारे थे वो बलिदान हो गए,,
जिन्हें जान प्यारी थी वो मुसलमान हो गए,,
शर्म आती है हमें ऐसे हिंदुत्व पर,,
जिस में निर्मल और साईं भी भगवान् हो गए,,,,,,,, 
हे भारत माता, दुबारा ऐसे कपूतों को जन्म देते देते ही दफ़न कर
 
Top