केजरीवाल जी किस सोच में हो आप ?... शायद यही न कि देश का हर एक युवा आपके साथ जुड़ा है.. सुना है आप देश में बदलाव लाना चाहते हैं ?..सुना है कि आप देश का प्रधानमंत्री बनकर भारत को नयी उचाइयो पर ले जाना चाहते हैं ... बहुत अच्छा विचार है साहब आपका.. लेकिन जरा आपके कुछ महान कारनामों पर भी चर्चा कर लें... क्योकि हम तो देश के भोले युवा हैं,.. कोई भी ऐरा गेरा नत्थू खेरा हमें पागल बना जाता है.

ख़ैर मेरे सवाल इतने कठिन भी नहीं हैं.. अगर आप दिल से इमानदार हो तो आपको मेरे सवालो के जवाब देने में समय नहीं लगेगा.

केजरीवाल जी आप कहते हो कि आप आम आदमी के नेता हो.. आम आदमी पार्टी, आम आदमी की पार्टी है..

उत्तम अति उत्तम लेकिन जरा ये भी बता दीजिये कि भारत के कितने आम आदमी अंग्रेजी अच्छी तरह पढना जानते हैं ?.. केजरीवाल जी आपकी आम आदमी पार्टी की पूरी वेबसाइट अंग्रेजी में है..

क्या आपको अपने देश की भाषा बोलते हुए या लिखते हुए शर्म आती है ? अगर आपको हिंदी में वेबसाइट बनाने पर शर्म आती है तो आपको अपने आप को आम आदमी कहने में भी शर्म आनी चाहिए,
(आप चाहे तो अपनी वेबसाइट http://aamaadmiparty.org/ देख सकते हैं. )

ख़ैर अभी तो मैं आपको और ज्यादा शर्मशार करने वाला हूँ... आप तो बस पढ़ते जाइये..

आपने और मनीष शिसोदिया की दलाल जोड़ी ने प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि गुजरात की मोदी सरकार लोकायुक्त की नियुक्ति पर अधिसूचना जारी नही कर रही है ..

सच्चाई ये है कि 2 जनवरी को ही गुजरात सरकार ने जस्टिस आर.ए. मेहता को लोकायुक्त नियुक्त करने के वारंट जारी कर दिए थे और गुजरात सरकार ने प्रशाशनिक सचिव हर्ष ब्रम्हभट्ट खुद मेहता के घर जाकर जरूरी कागजी औपचारिकता पूरी की और उनसे गुजरात के लोकायुक्त का पद सम्भालने की अपील की .. लेकिन जस्टिस मेहता ने कहा कि चूँकि अभी कुमुर्ता चल रहा है इसलिए वो १४ जनवरी के मकर संक्रांति के बाद जब सूर्य उत्तरायण होगा तब वो पद सम्भालेंगे क्योंकि कुमुर्ता में कोई भी हिन्दू नया काम या कोई शुभ काम नही करता | आज भी सचिवालय प्रांगण में लोकायुक्त ऑफिस के बहार जस्टिस मेहता का नेम प्लेट लग चूका है और मेहता के लिए केबिनेट मंत्रियो के लिए बने बंगले में से बंगला नम्बर 16 एलाट भी हो चूका है |

कुछ शर्म आई कि नहीं आई आपको..? मुझे पता है आपको इतनी जल्दी शर्म नहीं आएगी.. मुझे थोडा और नीचे गिरना पड़ेगा..

मैं बताता हूँ आपने देश के लिए क्या किया है ?

आपने अन्ना और किरणबेदी जैसे लोगों का नाजायज़ फायदा उठाया है.. अपने खुलासों की मंडी लेकर बताते हो पर करते कुछ नही हो अगर आपके पास सबूत हैं तो कोर्ट क्यूँ नही जाते.. ??


आपने बुखारी जैसे देश देशद्रोही ISI के एजेंट को अपना साथ बनाया है और बुखारी के कहने पर ही आपने अन्ना के आन्दोलन से वंदेमातरम बंद करवाया क्योंकि मुस्लिम में वंदेमातरम नही बोला जाता है.....


मुस्लिम हमेशा कांग्रेस को ही वोट देते हैं और रहेंगे पर हिन्दू जो इस बार
बीजेपी के साथ हैं आप उनको तोडना चाहते हो जिससे कांग्रेस फिर से सत्ता में आये......


गौ हत्या से लेकर हैदराबाद में भाग्य लक्ष्मी मंदिर में हिन्दुओ पर जो हुआ है उस पर आपकी चोंच जरा भी नहीं खुली... ?

आपने कहा था कि आपकी आम आदमी पार्टी के सदस्यों पर जो भी इल्जाम लगे हैं आप उनकी पार्टी के लोकपाल से जाँच करवाएंगे.. और तीन महीनों के अन्दर उन पर एक्शन लिया जायेगा.. जहाँ तक मेरा ख्याल है ये आपने सितम्बर के शुरू में कहा था.. तो क्या आपने भी सत्ता में आने से पहले ही जांच घोटाला कर लिया.. ?

मुझे पता है आपको अभी भी शर्म नहीं आई होगी.. क्योंकि जो कांग्रेस का साथ देने की सोचता है बेशर्म तो वो तभी हो जाता है. कोई बात नहीं केजरीवाल जी आप तो बस पढ़ते जाइये.,

आपने नरेन्द्र मोदी के ऊपर घोटाले का इल्जाम लगाया.. और कहा कि आपको वो सुबूत संजीव भट्ट से मिले थे... सारा भारत जानता है कि संजीव भट्ट की पत्नी श्वेता भट्ट कांग्रेस के टिकेट पर गुजरात से चुनाव लड़ी थी. तो आप तो संदेह के घेरे में इसी जगह पर आ जाते हो कि संजीव भट्ट ने वो सुबूत कांग्रेस को क्यों नहीं दिए.. क्या उसकी कांग्रेस ने इतनी भी नहीं सुनी की वो मोदी के खिलाफ सुबूत पेश कर सके..?

या तो कांग्रेस को उन सबूतों पर विश्वास नहीं था या फिर आप कांग्रेस के लिए काम कर रहे हो.. तभी तो एक कांग्रेसी के कहने पर आपने कांग्रेस के घोर विरोधी पर इल्जाम लगाये.. हम भोले हैं केजरीवाल जी लेकिन इतने भी नहीं की हर कोई हमें पागल समझने की भूल करे.

आप सुदर्शन न्यूज़ चैनल को फ़ोन करके कहते हो कि ओवैसी के ऊपर कार्यक्रम ना दिखाए ?

क्यों भाई वो क्या आपका कुम्भ के मेले में बिछुड़ा हुआ भाई है.. साफ- साफ क्यों नहीं कहते कि आप किसी मुसलमान को इस तरह नंगा होते हुए नहीं देख सकते.

आप बुखारी के गले मिलते हो और कहते हो कि वो आपके साथ है,. आप जानते हो न कि बुखारी कौन है ?

बुखारी खुलेआम कहता है कि वो ISI का एजेंट है. ख़ैर वो आपका प्रिय हो सकता है. क्योंकि आप किसके एजेंट हो वो सबको समझ में आ चूका है.

आपके टीम के श्री प्रशांत भूषण साहब कश्मीर को पाकिस्तान को देने की वकालत करते हैं... लेकिन जब उनका इलाज बग्गा जैसे नौजवानों द्वारा किया जाता है तब असली औकात पर आते हैं.

आप मुसलमानों को आरक्षण देने की बात करते हो.. क्यों क्या सिर्फ मुसलमान ही पिछड़े हुए हैं ?... आपकी नॉलेज के लिए बता दूँ कि मुसलमानों ने इस देश पर 1000 साल से भी ज्यादा समय तक राज किया है.. तो वो पिछड़े हुए कैसे हो गए.. ?

आप नरेन्द्र मोदी के लिए कहते हो कि आप उन्हें जीत की बधाई नहीं देंगे. अच्छा जी अगर आप उन्हें जीत की बधाई नहीं देंगे तो क्या वो मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे ?

आपके टीम के कुमार विश्वास जी हिन्दू देवी देवताओ का मजाक उड़ाते हैं अपनी कविताओ में.. तब आपकी धर्मनिरपेक्षता कहा चली जाती है ?

आपके चमचे फेसबुक पर आकर गला फाड़ते हैं कि गुजरात में लोकायुक्त अभी तक नहीं आया.. लेकिन जब उत्तराखंड में कांग्रेस सत्ता में आते ही लोकपाल को हटा देती है तब आपके किसी चमचे की चोंच क्यों नहीं खुलती..? आप तो ख़ैर बहुत बाद में आते हो, क्यों सिर्फ देश में गुजरात ही अकेला राज्य है क्या ??

अरे कुछ शर्म आई क्या अपने कारनामों पर ? मुझे पता है नहीं आई होगी. चिंता मत करिए केजरीवाल जी पढ़ते जाइये आप.. ये सब पढ़कर किसी भी देशभक्त का सिर शर्म से झुक सकता है.. ये आपके ऊपर है कि आप क्या हो ?

लेकिन मेरा सबसे बड़ा सवाल आपसे यही है कि क्या देश में लोकपाल ही इकलोती समस्या है.. ?

आप आसाम दंगो पर चुप रहते है.. क्यों ?

आप भारतीय सैनिको की हत्या पर पाकिस्तान के साथ मृदु व्यव्हार करने की हिदायत देते हैं.... क्यों?

आप संघ को आतंकवादी संगठन होने के बयान का बचाव करते हो क्यों ....??

आप दिल्ली मेट्रो को 1700 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट को दूसरी जगह ले जाने के लिए बोलते हो क्योकि उस स्टेशन पर मुसलमान अपनी मस्जिद बनाना चाहते हैं ... क्यों ?

आप हर बार खुलासे करते हो लेकिन कोर्ट जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाते.. जबकि सुब्रह्मण्यम स्वामी जी ने कांग्रेस की चूले हिला रखी हैं .. तो भी आप कोर्ट नहीं जाते....क्यों ?

आप कहते हो कि आप सेक्युलर हो.. किस तरह के सेक्युलर हो आप.. सिर्फ किसी धर्म विशेष के लिए.. ?

आपने अन्ना हजारे के मंच से भारत माता की तस्वीर हटवा दी थी.. क्या माँ की वंदना करना गलत है.. ??

आप कहते हो कि आपके आन्दोलन से लाखो लोग जुड़े थे.. आपकी जानकारी के लिए बता दूँ कि वो आन्दोलन आपका नहीं अन्ना हजारे जी का था.. अगर अन्ना नहीं होते तो कोई आपको पूछने वाला भी नहीं था.

आपने अन्ना हजारे के आन्दोलन में जुड़े लोगो के फ़ोन नम्बर और उनका डेटा अपनी पार्टी के लिए इस्तेमाल किया.. अब आप ये मत कहियेगा कि नहीं किया.. क्योकि आपके AAP पार्टी के मैसेज मेरे पास भी भरपूर आते थे.. वो भी तब तक जब तक मैनें उन्हें शुद्ध गालियों वाली भाषा में नहीं समझाया..

आपने रोबर्ट वढेरा के ऊपर खुलासा किया लेकिन फेसबुक यूज़ करने वाला हर व्यक्ति जानता है कि आपके ढोंग करने से पहले ही फेसबुक मीडिया ने ये खबर हर वाल तक पंहुचा दी थी..

आपने सलमान खुर्शीद के ऊपर हुए खुलासे को अपना नाम देने की कोशिश की.. अरे थोड़ी सी गैरत बची है क्या आप में ? सलमान खुर्शीद के ऊपर खुलासा आज तक ने किया था आपने नहीं.. आप तो बस अपने आन्दोलन की दुकाल लेकर बैठ गए थे... २ जूते खाए और भूल गए सलमान खुर्शीद को.. अगर आपको देश की इतनी ही चिंता थी तो खुर्शीद को विदेश मंत्री बनाने से रोकने के लिए आन्दोलन करते.. धरना देते.. तब शायद मैं भी आपके साथ कंधे से कन्धा मिलकर खड़ा होता..

आप दिल्ली सरकार द्वारा एक कॉलोनी को हटा देने पर उन लोगों के साथ धरने पर बैठ गए.. क्योकि वो मुसलमान थे..अरे क्या आपको कभी कश्मीरी पंडित नहीं दिखे..? क्या उनके साथ खड़ा होने के लिए आपको मीडिया कवर नहीं मिल रहा था ?

दामिनी रेप केस में आपकी डफली 7 दिन बाद बजती है.. तो क्या 7 दिन आपने कांग्रेस से परमिशन मिलने का इंतजार किया था ?

ख़ैर दामिनी रेप केस में आम इन्सान और बाबा रामदेव जैसे योगी को भी जनता मंतर पर दिल्ली पुलिस ने नहीं बैठने दिया.. और वह धारा 144 लगा दी.. लेकिन आप धारा 144 लगी होने के बावजूद वहाँ गए और आन्दोलन किया.. मतलब साफ़ है कि आपको कांग्रेस का स्पोर्ट था तभी तो दिल्ली पुलिस ने आपको नहीं रोका..

आपने जिस घर का बिजली कनेक्शन जोड़ा था वो मकान मालिक बेचारा आज कोर्ट के चक्कर काट रहा है लेकिन आपके ऊपर कोई मुकदमा नहीं हुआ और आपने उस मकान मालिक की सुध आज तक नहीं ली.. ??

आपकी पत्नी पिछले 20 साल से दिल्ली में ही पोस्टेड है.. जबकि कोई भी सरकारी अफसर 5 साल से ज्यादा एक जगह नहीं रह सकता... ये सब किसके कहने से हो रहा है मुझे बताने की जरुरत नहीं है.,. और आप ईमानदारी की बात करते हो ? अरे कुछ शर्म बची है कि नहीं आपके अन्दर. ??

केजरीवाल जी मैं एक आम इन्सान हूँ.. सॉरी अपने आपको आम आदमी भी नहीं कह सकता.. क्योकि उसका कॉपीराइट तो आपने ले लिया है., मेरा एक भी सवाल गलत नहीं है.. अगर आप इन सवालो के सही जवाब दे सकें तो ही अपने आप को आम आदमी का मसीहा बताना... वरना अपनी ये नोटंकी बंद करके 10 जनपथ के पहरेदार बन जाओ ताकि लोगो की आँखों से भ्रम दूर हो.

और अगर अब भी किसी खुजली भक्त को खुजली हो रही हो तो मेरे इन सवालों का जवाब तमीज से दे.. वरना मुझे उसे बेन करने में कोई परेशानी नहीं होगी..
अगर आप सहमत है तो पोस्ट को शेयर जरुर करें,

जय हिन्दम भारत माता की जय !
 
Top