सिंह दहाड़ से काँप उठा पाकिस्तान..
दुम दबा के छोड़ा मैदान..

जिसने हिन्दी को दिलाई विश्व फलक पर पहचान..

टुट गयी अमेरिका की नींद..
परमाणु की गुंज से..

दिखा दिया पुरे विश्व को कि कम नही हिन्दुस्तान..

परिस्थियाँ जिसको मोड़ ना पायी..
मुड़ गयी खुद जिसके नुसार..

एक कवि जिसके आगे झुक गयी सारी दुनिया जहान...

हम करते प्रणाम...
देव पुरुष आपको बारमबार..
जियो ऐसे ही आप हजारो साल...

श्री अटल बिहारी जी को समर्पित
 
Top