टाइम-पास जन लोकपाल बिल पर और जानकारी,,,,

1.) दिसम्बर-2010 में, अन्ना ने जनलोकपाल क़ानून के लिए मांग की | फरवरी-2010 तक , उन्होंने कानों की मांग की | मार्च-2010 के मध्य में, उन्होंने पलती मारी और समिति/कमीटी की मांग की ! दूसरे शब्दों में टाइम-पास जून-जुलाई अन तक |

2.) उसके बाद सांसदों ने और सिविल सोसाइटी के सदस्यों ने महीनो तक चर्चा की | अब , अन्ना कहते हैं कि वे दोबारा अनशन करेंगे यदि उनकी मांगें पूरी नैन हुई मार्च-15 तक | आशा करते हैं कि उनकी मांगें पूरी हो जायें |

3.) फिर बिल में लिखा है कि वो 4 महीनों बाद लागू होगा पारित होने के बाद | तो ये एक और 4 महीनों का टाइम-पास |

4.) फिर बिल में लिखा है कि उपराष्ट्रपति चुनाव समिति बनायेंगे और उपराष्ट्रपति पर कोई समय-सीमा नहीं है | उसे महीनों लग सकते हैं चुनाव समिति बनने के लिए |

5.) क्या चुनाव समिति 11 लोकपाल की नियुक्ति तुरंत कर देगी ? नहीं | जनलोकपाल बिल में लिखा है कि चुनाव समिति एक खोज-समिति बनाएगी ! फिर, चुनाव्व समिति को महीनों-महीनों लग सकते हैं खोज समिति चुनने के लिए |

6.) खोज समिति कई 100 की सूचि/लिस्ट को छांट कर 33 उम्मीदवार चुनेगी | फिर से, अन्ना का जनलोकपाल इसके लिए कोई समय सीमा नहीं देता | इस तरह खोज समिति को महीनों-महीनों लग सकते हैं |

7.)खोज समित इन 33 में से 11 चुनेगी | फिर से कोई समय सीमा नहीं दी गयी है और ये भी एक टाइम-पास है | यदि 3-4 सदस्यों ने एक मिली-भगत बना ली और 33 नामों का विरोध किया , तो सभी चुने हुए नाम रद्द कर दिए जाएँगे |

8.) इसके बाद लोकपाल आयेंगे और उनको छह महीने लग जाएँगे दफ्तर जमाने में और स्टाफ /कर्मचारियों की भर्ती करने में |
तो कुल मिलकर, हमारे पास कुछ नहीं, एक 2 सालों से लेकर दर्जों साल तक टाइम-पास ही है |

कोई हैरानी नहीं की सोनिया गाँधी ने अन्ना हजारे की मांगों को मान लिया क्योंकि ये टाइम-पास था | और कोई हैरानी नहीं कि सोनिया ने 5000 पुलिसवालों को रामदेवजी के समर्थकों को आधी रात को पीटने के लिए कहा और मंडप को जला देने के लिए कहा | क्योंकि रामदेव जी ने कहा “ मुझे काम चाहिए , समिति नहीं” जबकि अन्ना ने कहा कि मुझे ( टाइम-पास ) समितियां ही चाहिए |

Translation

Time-have information on people's Ombudsman bill,,,, 1.) December-2010, Anna has janlokpal demand for law | February-2010, he sought out the ears | March-2010 kicked in, he sought and the Committee/kamiti palti! In other words the non time-June-July |

2.) after MPs and civil society discussed by the members of s. Now, Anna says he will if his demands were again March over the Anshan – Nain | Hope to be their demands met.

3.) then after 4 months that the Bill will take effect after the passage. So they got another 4 months time-|

4.) then bill that colleagues create Vice President Election Committee and Vice President is not a deadline. It can take months to become Election Committee |

5. appointment of the Election Committee) will immediately 11 Ombudsman? Need not be Janlokpal is written in the Bill that will form a Search Committee Election Committee! Then, can take months to months-chunavva Committee Search Committee to choose |

6. list of several 100-list) Committee to make 33 candidate cuts thereof | Again, Anna returns to the janlokpal no time limit | The Search Committee could take months-months.

7.11 of these 33) Samit thereof | Again no time limit has been given and it is also a time-pass | If 3-4 members have created a found-opposed and 33 names Bhagat, then all will be the chosen name.

8.) Ombudsman Office will look at six months they will be recruiting staff to staff and |
Together, the total we have nothing, from a darjon years 2 years time-is nearby.

Not a surprise, Anna hazare's demands of Sonia Gandhi assumed because it was time-pass | And no wonder the police a Sonia 5,000 supporters of the night beating ramdevji and Pavilion to burn | Because ramdev JI said "I must work, not the society" while Anna said that I should (time-) committees.
 
Top