गुजरात में मैडम सोनिया द्वारा '' नर-मादा '' परियोजना का जिक्र के पीछे की सच्चाई ....

आज जब गुजरात के राजकोट में चुनावी सभा में मैडम सोनिया का भाषण चल रहा था तो हम भी उनके राजनीतिक ज्ञान की जानकारी के लिये टीवी पर आँखे गडाये बैठे ..............लेकिन जैसे ही मैडम सोनिया ने कहा की ......... '' नर-मादा ''

का पानी सौराष्ट्र तक क्यों नहीं पहुंचा .. तो मेरा चौकना स्वाभाविक था ... की गुजरात में .........नर-मादा .. नाम की कोई परियोजना नहीं है तो फिर मैडम सोनिया नर-मादा परियोजना का जिक्र क्यों कर रही ..... और नर -मादा परियोजनाए तो सिर्फ कांग्रेसी संस्कृति की ही हिस्सा है जिसमे नारायणदत्त तिवारी , अभिषेक मनु सिंघवी , चाँद मोहम्मद ,महिपाल मदेरणा , गोपाल कांडा सहित आजादी के दौर के चाचा चाची , करमचंद ,जैसे लोग शामिल रहे है ................. खैर उसके बाद मेरा खोजी अभियान शुरू हुआ तो मुझे पता चला की मैडम सोनिया अपना भाषण रोमन स्टायल में लिख कर रखती है जिसके कारण उनके शब्दों का कभी कभी अर्थ का अनर्थ भी हो जाता है .... फिर मुझे एक फोटो मिली जो मैडम के द्वारा पंजाब के चुनाव के दौरान जालंधर में दिए गए भाषण से कुछ मिनट पहले की है ..... जिसमे बो भाषण देने से पहले रोमन लिपि में अपना भाषण तैयार कर रही थी तभी किसी पत्रकार के कैमरे ने उस पल को क्लिक कर लिया था .. तो आप भी देखे मैडम सोनिया के भाषण की टेक्नीक.. और
खुद को समझा भी ले की मैडम ने राजकोट में जिस ... नर - मादा परियोजना की बात की थी बो असल में नर्मदा परियोजना है ................!!!
 
Top