मनमोहन सिंह क्या दोगला इन्सान है ? जब ये राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष था तब ऐसी हवा उडी थी की एनडीए सरकार एफडीआई ला सकती है .. इस पर महाराष्ट्र चेम्बर ऑफ़ कोमर्स ने मनमोहन सिंह को इस मुद्दे पर लिखा था |

तब ये सोनिया का गुलाम जो आज वालमार्ट का दलाल बना घूम रहा है उस वक्त महाराष्ट्र चेम्बर ऑफ़ कोमर्स को पत्र लिखकर आश्वस्त किया था कि मै और मेरी पार्टी कांग्रेस कभी इस देश में एफडीआई नही आने देंगे |
तो ये सब क्या है ये दोगलापन नही है?
आप सभी अपने विचार दीजिए की मंदमोहन का दोगलापन कहा तक देश को गर्त में ले जायेगा?

 
Top