डीजल व पेट्रोलियम पदार्थो के दाम जब भी
बढ़ाए जाते हैं, तो तेल कंपनियों के घाटे की दुहाई दी जाती है।
लेकिन, घाटा हैं कहाँ ? किसे हो रहा है ? ये आंकड़े तो कुछ और ही कहते हैं ......
सूचना के अधिकार (आरटीआइ) के तहत पता चला है कि पेट्रोलियम
कंपनियां हर साल भारी मुनाफा कमा रही हैं। वर्ष 2010-11 में ही

उन्होंने 25 हजार करोड़ रुपये से भी अधिक का शुद्ध मुनाफा कमाया।
(शुद्ध मुनाफा उसे कहते हैं जो सारे कर और खर्चे चुकाने के बाद बचता है l)

यह जानकारी एमटेक (इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्युनिकेशन) कर चुके
विकास गहलोत ने आरटीआइ के सहारे हासिल की है। विकास ने
हिंदुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम, इंडियन ऑयल, ओएनजीसी,
गेल इंडिया, नुमालीगढ़ रिफाइनरी, बामर लॉरी एंड कंपनी से उनकी
लाभांश रिपोर्ट मांगी। इस पर कंपनियों की ओर से दिए गए जवाब
चौंकाने वाले हैं। इससे पता चला है कि किसी भी कंपनी को साल
2000 के बाद कोई नुकसान ही नहीं हुआ है। फिर भी पेट्रोल, डीजल
या गैस की कीमत बढ़ा दी जाती है। यदि प्रमुख कंपनियों के साल
2010-11 के शुद्ध मुनाफे को जोड़ दिया जाए, तो यह करीब 25
हजार करोड़ रुपये के आंकड़े को छू जाता है। तेल कंपनियों से
आरटीआइ के सहारे मिली जानकारी
===============================
मित्रो लूटेरी काँग्रेस का एक और सच !
क्या आप जानते पेट्रोल कंपनियो को समुद्र और जमीन से पेट्रोल निकालने
और सारी processing
करने के बाद पेट्रोल कितने रुपए का पड़ता है ???????????
सरकार अन्तराष्ट्रीय बाज़ार में तेल की कीमतों का रोना रोती है पर जो तेल
देश में ही निकलता है वो मुफ्त का होता है ये सरकार नहीं बताती.......
ऐसे कई खुलासे हैं जिन्हें आप जानेगे तो आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे !!
की इतना tax लगाकर लूट रही है काँग्रेस !!
और 65 साल हो गए देश गरीब से और गरीब होता जा रहा है होता जा रहा है !!

जरूर देखे share करे !!यह जानकारी लेने के बाद चुप ना बैठिएगा, अपने हर जानकार तक यह जानकारी पहुंचा कर सरकार द्वारा फैलाये गए झूठ का पर्दाफाश करें l
(यह विडियो 2008 का है तो पेट्रोल का प्रतिलीटर दाम 2008 का बताया गया है )

http://www.youtube.com/watch?v=aCNwx9SEbGs&
 
Top