स्वामी रामदेव जी ने आरोप लगाया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रहे उनके आंदोलन को कमजोर करने के इरादे से उन पर झूठे आरोप लगाकर उनका चरित्रहनन किया जा रहा है। इसी साजिश के तहत उन पर अपने गुरू शंकर देव और सहयोगी राजीव दीक्षित की हत्या जैसे आरोप लगाए जा रहे हैं। से आरोप लगाने के लिए उन्होंने कांग्रेस और इसके महासचिव को जमकर लताड़ लगाई है। स्वामी रामदेव जी ने इन दोनों मामलों में सफाई देने के इरादे से रविवार को बुलाई प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि उनके गुरू शंकर देव के पास सवा एकड़ जमीन भी नहीं थी। ऐसे में किसी लालच के लिए उनकी हत्या का सवाल ही नहीं उठता। जब उनके गुरू लापता हुए, उस समय वह भारत में थे ही नहीं। साथ ही उत्तराखंड पुलिस अपनी जांच रिपोर्ट में कह चुकी है कि उनके बारे में कुछ भी पता नहीं चल सका है। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति के जरिये यह साजिश कराई जा रही है, उसके खिलाफ पुख्ता सबूत मिलने के बाद संसद मार्ग थाने में शनिवार को नामजद शिकायत दर्ज करा दी गई है। वह जगह-जगह घूमकर लोगों को लालच देकर स्वामी रामदेव जी के खिलाफ झूठे बयान देने के लिए उकसा रहा था। स्वामी जी ने कहा कि स्वदेशी के प्रचारक और उनके सहयोगी राजीव दीक्षित की मृत्यु के बारे में भी ऐसे ही सवाल उठाए जा रहे हैं, जबकि डॉक्टरों और अस्पताल के सारे रिकॉर्ड उनके पास मौजूद हैं। रिकॉर्ड में साफ बताया गया है कि दीक्षित की मौत हृदयाघात के कारण हुई थी। स्वामी रामदेव जी ने कहा कि इसके बावजूद कांग्रेस के एक महासचिव मुझ पर इन दोनों की हत्या कराने का आरोप लगा रहे हैं।

(साभार:
http://www.pressnote.in/khas-khabar_179060.html#.UE2tELLib0I समाचार के सम्पादित अंश| यह समाचार विभिन्न समाचार पत्रों से प्रकाशित खबरों से मात्र सूचना के उद्देश्य से लिये गये हैं )
Next
Newer Post
Previous
This is the last post.
 
Top